मनुस्मृति


  मनुस्मृति हिन्दू धर्म का प्राचीन धर्म शास्र है| इसे मनुसंहिता के नाम से भी जाना जाता है| ऋषि मुनियों के द्वारा सभी वर्णों संकीर्ण जातियों के पूर्व के अनुसार […]

Read More

तबलीगी जमात क्या है?


तबलीगी जमात क्या है और क्यों तबलीगी जमात की स्थापना की गयी? तबलीगी जमात इस्लामी धर्म प्रचार आन्दोलन है| तबलीग का मतलब होता है, अल्लाह व् कुरान और हदीस की […]

Read More

सरकार की रामायण


प्रकाश जावड़ेकर (सूचना एवं प्रसारण मंत्री) जी ने घोषणा की है कि 28 मार्च से जनता की डिमांड पर रामायण धारावाहिक दूरदर्शन चैनल पर दोबारा प्रसारित किया जाएगा। पूरा भारत […]

Read More

क्या ईश्वर सर्वशक्तिमान और दयावान है?


  ईश्वर सर्वशक्तिमान है| ईश्वर परम सामर्थ्य वाला है क्योंकि वह कुछ भी कर सकता है| ईश्वर दयावान है| वह स्रष्टि का रचियता है और वही स्रष्टि का विनाशक| प्रथ्वी […]

Read More

नास्तिकता व धर्म के प्रति भगत सिंह के विचार


अधिकांश लोग भगत सिंह को सिर्फ एक जोशीले क्रांतिकारी के रूप में जानते है| लेकिन भगत सिंह एक बहुत बड़े विचारक भी थे| भगत सिंह ईश्वर में विश्वास नहीं रखते […]

Read More

धार्मिक अन्याय


dharmik anyay

    यदि आप सामाजिक न्याय, आर्थिक न्याय, और राजनैतिक न्याय कि अभिलाषा रखते हैं तथा साथ ही आप धार्मिक प्रवृत्ति के हैं तो आपके द्वारा न्याय कि उम्मीद करना बेमानी है| क्योकि सामाजिक, […]

Read More

जो धर्म आपको नीच कहता हो, उसे लात मार दो


“जो धर्म आपको नीच कहता हो उसे लात मार दो”| पर कैसे ? हजारों सालो से जो धर्म हमारे जीवन का हिस्सा है क्या उस धर्म पर लात मारना इतना […]

Read More

नास्तिक


नास्तिक होने का अर्थ सिर्फ ‘ईश्वर को ना मानना’ नहीं है बल्कि जो मनुष्य किसी सर्वशक्तिमान पर विश्वास करने के बजाय स्वयं पर विश्वास करता हो, यथार्थवादी हो, तार्किक हो, […]

Read More