मनुस्मृति


1 comment

  मनुस्मृति हिन्दू धर्म का प्राचीन धर्म शास्र है| इसे मनुसंहिता के नाम से भी जाना जाता है| ऋषि मुनियों के द्वारा सभी वर्णों संकीर्ण जातियों के पूर्व के अनुसार […]

Read More

तबलीगी जमात क्या है?


0

तबलीगी जमात क्या है और क्यों तबलीगी जमात की स्थापना की गयी? तबलीगी जमात इस्लामी धर्म प्रचार आन्दोलन है| तबलीग का मतलब होता है, अल्लाह व् कुरान और हदीस की […]

Read More

सरकार की रामायण


0

प्रकाश जावड़ेकर (सूचना एवं प्रसारण मंत्री) जी ने घोषणा की है कि 28 मार्च से जनता की डिमांड पर रामायण धारावाहिक दूरदर्शन चैनल पर दोबारा प्रसारित किया जाएगा। पूरा भारत […]

Read More

क्या ईश्वर सर्वशक्तिमान और दयावान है?


1 comment

  ईश्वर सर्वशक्तिमान है| ईश्वर परम सामर्थ्य वाला है क्योंकि वह कुछ भी कर सकता है| ईश्वर दयावान है| वह स्रष्टि का रचियता है और वही स्रष्टि का विनाशक| प्रथ्वी […]

Read More

नास्तिकता व धर्म के प्रति भगत सिंह के विचार


1 comment

अधिकांश लोग भगत सिंह को सिर्फ एक जोशीले क्रांतिकारी के रूप में जानते है| लेकिन भगत सिंह एक बहुत बड़े विचारक भी थे| भगत सिंह ईश्वर में विश्वास नहीं रखते […]

Read More

धार्मिक अन्याय


dharmik anyay
0

    यदि आप सामाजिक न्याय, आर्थिक न्याय, और राजनैतिक न्याय कि अभिलाषा रखते हैं तथा साथ ही आप धार्मिक प्रवृत्ति के हैं तो आपके द्वारा न्याय कि उम्मीद करना बेमानी है| क्योकि सामाजिक, […]

Read More

जो धर्म आपको नीच कहता हो, उसे लात मार दो


2 comments

“जो धर्म आपको नीच कहता हो उसे लात मार दो”| पर कैसे ? हजारों सालो से जो धर्म हमारे जीवन का हिस्सा है क्या उस धर्म पर लात मारना इतना […]

Read More

नास्तिक


0

नास्तिक होने का अर्थ सिर्फ ‘ईश्वर को ना मानना’ नहीं है बल्कि जो मनुष्य किसी सर्वशक्तिमान पर विश्वास करने के बजाय स्वयं पर विश्वास करता हो, यथार्थवादी हो, तार्किक हो, […]

Read More