जवानों की शहादत:- संयोग या प्रयोग


0
Categories : अन्य
Spread the love

सुना था कि सैनिक किसी प्रदेश का नहीं बल्कि देश का होता है लेकिन मोदी जी ने ये ग़लतफ़हमी भी दूर कर दी| चीन के साथ हुई झड़प में देश के 20 सैनिक शहीद हुए थे| सभी सैनिक 6 अलग अलग रेजिमेंट के थे| सबसे अधिक शहीद होने वाले सैनिक बिहार रेजिमेंट से थे|

हाल ही में मोदी जी ने गरीब कल्याण रोजगार अभियान की शुरुआत की| जिसमेंं मोदी जी ने देश वासियों को संबोधित किया लेकिन उनका भाषण बिहार पर ही केन्द्रित रहा| गरीब कल्णाण रोजगार अभियान की शुरुआत करते हुए उन्होंने चीन के साथ हुई झड़प का भी जिक्र किया| उन्होंने कहा कि “लद्दाख में पराक्रम बिहार रेजिमेंट का है, हर बिहारी को इसका गर्व है|” हमारे 20 सैनिकों के पराक्रम का सिर्फ बिहार वासियों को ही नहीं बल्कि पूरे देश को गर्व है| देश का जवान बिहार, पंजाब , उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र का नहीं होता बल्कि देश का होता है| हर जवान अपनी जान अपने राज्य के लिये नहीं बल्कि अपने देश के लिये न्योछावर कर देता है|

मोदी जी ने अपने अभिभाषण में सारा ध्यान बिहार पर ही केन्द्रित रखा| ऐसा लगा जैसे मोदी जी किसी चुनावी रैली को संबोधित कर रहे हों| जिस वक़्त देश के प्रधानमन्त्री जी को देश के सामने आकर सच्चाई से आवगत कराना चाहिए था उस वक़्त मोदी जी ध्यान बिहार पर केन्द्रित था| शायद मोदी को बुहार का चुनाव जीतना है|

तीन दिन पहले मोदी जी ने भारत चीन झड़प पर देश को संबोधित किया था| जिसमे उन्होंने कहा था, ” मै देश को भरोसा दिलाना चाहता हूँ हमारे जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जायेगा|” मोदी जी ने पुलवामा हमले के बाद भी ऐसा ही कहा था| उन्होंने हमारे जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाने दिया और लोकसभा चुनावों में इसका भरपूर इस्तेमाल किया और पूर्ण बहुमत के साथ मोदी जी ने सरकार बनायी| सरकार तो बन गयी लेकिन पुलवामा हमले के दोषियों का आज तक पता नहीं चल पाया| जो जांच चल रही थी, कहाँ तक पहुंची कोई नहीं जनता| धीरे धीरे यह घटना देशवासियों के दिलों और दिमाग से धुंधली होती चली गयी| लेकिन चीन के साथ हुई झड़प ने उस घटना के घाव फिर से ताज़ा कर दिए| फिर से जवानों का शहीद होना, देश के एक राज्य में चुनाव होना और मोदी जी के द्वारा कहना कि बलिदान व्यर्थ नहीं जायेगा| कभी कभी लगता है कि जवानों का शहीद होना कोई संयोग नहीं बल्कि एक प्रयोग है जो कि सत्ताधारी पार्टी के द्वारा सत्ता हासिल करने के लिये किया जाता रहा है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *